गूगल क्या है और किसने बनाया है


गूगल (Google) क्या है, गूगल (Google) किसने बनाया है, गूगल का इतिहास (Google History) क्या है, और गूगल की सर्विसेज़ (Google Services) कौन कौन सी है. – इस पोस्ट मे हम Google Kya Hai Aur Kisne Banaya Hai के बारे में बता रहे है. पिछली पोस्ट्स में हमने बताया था कि जीमेल से ईमेल कैसे भेजते है, और आधार कार्ड की वर्चुअल आईडी कैसे बनाते है. टेक्नोलोजी (Technology) के इस ज़माने में इंटरनेट का यूज़ (Internet Use) लगभग हर इंसान कर रहा है. आप सब भी इंटरनेट का यूज़ करते होंगे. और करे भी क्यों नहीं. हम इंटरनेट की हैल्प से कोई भी जानकारी कुछ ही पलो में हासिल कर सकते है. पहले जब इंटरनेट नहीं था तो लोग किसी जानकारी को पाने के लिये, उससे सम्बंधित किताबे (Books) पढ़ते थे, या किसी ज्ञानी इंसान से मदद लेते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं है. इंटरनेट के इस ज़माने में हम कोई भी, कहीं भी, और किसी भी तरह की जानकारी मिनटो में ही हासिल कर सकते है. क्योंकि आज इंटरनेट पर बहुत सारे सर्च इंजन (गूगल, याहू, बिंग, यन्डैक्स, आदि) मौजूद है. जिनमे हम कोई भी कीवर्ड एंटर (Keyword Enter) करके उससे सम्बंधित पूरी जानकारी पा सकते है. और सबसे अच्छी बात तो ये है कि इन सर्च इंजन (Search Engine) से जानकारी जुटाने के लिये हमे कोई अतिरिक्त पैसे खर्च करने नहीं पड़ते. हम फ्री में ही कोई भी जानकारी पा सकते है. बस, हमारी डिवाइस (कंप्यूटर, लैपटॉप, टैबलेट, और मोबाइल आदि) में इंटरनेट क्नेक्शन ऑन (Internet Connection On) होना चाहिये.


इन्ही सर्च इंजन्स (Search Engines) में से आज हम आपको गूगल सर्च इंजन (Google Search Engine) के बारे में बताएंगे. कि गूगल (Google) क्या है, गूगल किसने बनाया है, गूगल का इतिहास (Google History) क्या है, और गूगल की सर्विसेज़ (Google Services) कौन कौन सी है. पूरी दुनियां के अंदर गूगल सर्च इंजन को ही सबसे ज्यादा यूज़ किया जाता है.

क्योंकि यह बहुत सिक्योर (Secure) है, इसका सर्च रिज़ल्ट बहुत सटीक और फास्ट (Fast) ओपन होता है, और गूगल हमे बहुत सारी सर्विसेज़ भी प्रोवाइड करता है. इसलिये अधिकतर इंटरनेट यूज़र्स (Internet Users) गूगल को ही यूज़ करना पसंद करते है. लेकिन कुछ लोगो को नहीं पता होता कि गूगल (Google) क्या है, गूगल (Google) किसने बनाया है, गूगल का इतिहास (Google History) क्या है, और गूगल की सर्विसेज़ (Google Services) कौन कौन सी है. अगर आप भी इनके बारे में नहीं जानते, तो कोई बात नहीं. आज हम आपको गूगल के बारे में पूरी जानकारी देंगे.


गूगल (Google) क्या है

गूगल एक सर्च इंजन (Search Engine) है. जिसकी हैल्प से हम किसी भी कीवर्ड (Keyword) से सम्बंधित जानकारी पा सकते है. सर्च इंजन के अलावा गूगल की और भी बहुत सारी सर्विसेज़ (Services) है. जैसे – जीमेल, ड्राईव, फोटोज़, यूट्यूब, प्ले स्टोर, मैप्स, एडसेंस, अनालाइटिक्स, ब्लॉगर, गूगल प्लस, कैलिंडर, क्रोम, क्लाउड प्रिंट्स, कॉन्टेक्ट्स, फीडबर्नर, प्ले म्यूज़िक, ग्रुप्स, सर्च कंज़ोल, टास्क्स, कीप, हैंगआउट्स, बुक्स, माई बिज़नेस, क्लासरूप, क्लेक्शन्स, शापिंग, जमबोर्ड, अर्थ, ट्रांसलेट, डॉक्स, शीट्स, स्लाइड्स, फोर्म्स और ड्राविंग आदि.

गूगल की इन सर्विसेज़ को यूज़ करने के लिये हमे सबसे पहले गूगल अकाउंट (Google Account) या जीमेल पर ईमेल आईडी (Email ID) बनानी पड़ती है. जिसके बारे में मै गूगल जीमेल पर अकाउंट कैसे बनाये, पोस्ट में पहले ही बता चुका हूं. लेकिन गूगल मे कोई जानकारी सर्च करने के लिये हमे किसी पर भी कोई अकाउंट या आईडी बनाने की ज़रूरत नहीं पड़ती.

गूगल की शुरूआत 4 सितंबर 1998 को हुई. गूगल के फाउंडर्स, लैरी पेज (Larry Page) और  सर्जे ब्रिन (Sergey Brin) है. गूगल हेडक्वार्टर कैलिफोर्निया (Google Headquarter California) में है. जिसकी वेबसाईट www.google.com है. और इसकी बहुत सारी सर्विसेज़ भी है. जिनको हम अपने अलग अलग काम के लिये यूज़ (Use) कर सकते है. चलिए जान लेते है कि गूगल (Google) कौन कौन सी सर्विसेज़ प्रोवाइड (Services Provide) करता है, और उनको हम किस किस काम के लिये यूज़ कर सकते है.

गूगल की सर्विसेज़ (Google Services) कौन कौन सी है

गूगल (Google) दुनियां का सबसे बड़ा सर्च इंजन (Search Engine) है. सर्च इंजन के अलावा इसके बहुत सारे प्रोडक्ट (Product) भी है. जो पब्लिक के उपयोग करने के लिये बनाए गए है. अगर आप एक इंटरनेट यूज़र (Internet User) है, तो आप गूगल की सभी सर्विसेज़ का उपयोग बहुत आसानी से कर सकते है.

अगर आप नहीं जानते कि गूगल कौन कौन सी सर्विस प्रोवाइड करता है. तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़े. आप जान जाएंगे कि गूगल (Google) क्या है, गूगल (Google) किसने बनाया है, गूगल का इतिहास (Google History) क्या है, और गूगल की सर्विसेज़ (Google Services) कौन कौन सी है. चलिए जाने कि गूगल के कुछ मुख्य प्रोडक्ट कौन से है, और उनका उपयोग किस लिये किया जाता है.

जीमेल (Gmail)

जीमेल पर ईमेल आईडी (Email ID) बनाकर हम पूरी दुनियां में किसी भी इंसान के ईमेल एड्रेस (Email Address|) पर ईमेल, फोटो, वीडियो, इमेज्स, डॉक्युमेंट्स, फाइल्स, आदि को भेज सकते है. और अपने ईमेल एड्रेस पर रिसीव भी कर सकते है.

गूगल ड्राइव (Google Drive)

गूगल ड्राइव हमे क्लाउड स्टोरेज प्रोवाइड (Cloud Storage Provide) करता है. जिसका यूज़ करके हम अपने फोटोज़, वीडियोज़, ईमेज्स, फाइल्स और डॉक्युमेंट्स आदि को ऑनलाइन स्टोर (Online Store) कर सकते है.

गूगल फोटोज़ (Google Photos)

गूगल फोटोज़ पर हम अनलिमिटेड फोटोज़ और वीडियोज़ (Unlimited Photos and Videos) को अपलोड करके ऑनलाईन सेव (Online Save) कर सकते है. इस पर अभी फोटो और वीडियो को अपलोड करके स्टोर करने की कोई लिमिट नहीं है. हमें यहां असीमित स्पेस (Unlimited Space) मिलता है.

गूगल डॉक्स (Google Docs)

जिस तरह से हम अपने कंप्यूटर या लैपटॉप (Computer or Laptop) में एमएस वर्ड का यूज़ (MS Word Use) करके कोई डॉक्स फाइल (Docs File) बनाते है. उसी तरह से हम गूगल डॉक्स का यूज़ (Google Docs Use) करके कोई ऑनलाइन ड़ॉक्स फाइल (Online Docs File) बना सकते है. और उसे किसी के साथ शेयर (Share) भी कर सकते है.

यूट्यूब (Youtube)

अगर आप किसी भी तरह की वीडियो (Video) देखने के शौकीन है. तो आप यूट्यूब का यूज़ (Youtube Use) कर सकते है. यहां हमे हर तरह की वीडियो देखने को मिलती है. और यूट्यूब पर चैनल (Youtube Channel) बनाकर हम अपनी बनाई हुई वीडियो अपलोड (Video Upload) कर सकते है. और सारी दुनियां को दिखा सकते है.

गूगल मैप्स (Google Maps)

आप गूगल मैप्स की हैल्प से पूरी दुनियां का नक्शा देख सकते है. ओर अपनी करंट लोकेशन (Current Location) भी देख सकते है.

ब्लॉगर (Blogger)

अगर आप लिखने के शोकीन है, तो बलॉगर पर अपना एक फ्री ब्लॉग (Free Blog) बना कर उस पर अपनी पोस्ट्स शेयर (Posts Share) कर सकते है. दुनियां भर के साथ अपने एक्सपीरियंस और ज्ञान (Experience and Knowledge) को बाट सकते है.

गूगल प्लस (Google Plus)

यह एक सोशल नेटवर्किंग साइट (Social Networking Site) है, जिस पर प्रोफाइल (Profile) बनाकर हम अपने फ्रैंड्स, फैमिली मेम्बर्स, और सेलेब्रेटी को फोलो (Follow) कर सकते है. और उनकी पोस्ट्स पढ़ सकते है. ठीक इसी तरह से लोग हमे भी गूगल प्लस (Google Plus) पर फोलो कर सकते है. और हमारी पोस्ट्स पढ़ सकते है.

गूगल एडसेंस (Google Adsense)

अगर आप एक ब्लॉग या वेबसाइट (Blog or Website) के मालिक है. और उस पर डेली नई नई ज्ञानवर्धक पोस्ट्स शेयर करते है. तो आप गूगल एडसेंस पर अकाउंट (Google Adsense Account) बनाकर अपनी साइट पर एड्स (Ads) लगा सकते है. और इंटरनेट से ऑनलाइन (Online) पैसे कमा सकते है.

गूगल क्रोम (Google Chrome)

यह एक ब्राउज़र (Browser) है, जिसे हम अपने कंप्यूटर, लैपटॉप या मोबाइल में इंस्टॉल (Install) करके ब्राउज़िंग कर सकते है. और दुनिया भर की किसी भी वेबसाइट (Website) को ओपन कर सकते है.

गूगल अल्लो (Google Allo)

यह एक इंस्टेंट मैसेंजर एप्प (Instant Messenger App) है. जिसके थ्रु हम किसी को मैसेज, फोटो, इमेज, वीडियो, आदि भेज सकते है. और रिसीव कर सकते है.

गूगल अनालाइटिक्स (Google Analytics)

यदि आप एक ब्लॉग या वेबसाइट ओनर (Blog or Website Owner) है, तो आप अपनी साइट पर आने वाले ट्राफिक की कंप्लीट रिपोर्ट (Complete Report) पाने के लिये अपने साइट के लिये गूगल अनालाइटिक्स पर अकाउंट (Google Analytics Account) बना सकते है. और अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर आने वाले विज़िटर्स (Visitors) की पूरी जानकारी पा सकते है.

गूगल सर्च कंज़ोल (Google Search Console)

अपने ब्लॉग या वेबसाइट की पोस्ट को सर्च इंजन (Search Engine) में शो करने के लिये गूगल सर्च इंजन का उपयोग (Google Search Engine Use) किया जाता है. अगर आप किसी साइट के मालिक है, और उस पर रोज़ाना पोस्ट्स शेयर (Posts Share) करते है. तो आप गूगल सर्च कंज़ोल में अपनी साइट को सबमिट (Submit) करके सभी पोस्ट्स को सर्च इंजन में शो कर सकते है.

गूगल बुक्स (Google Books) 

इसके थ्रु हम लाखो किताबो को पढ़ सकते है.

गूगल वॉईस (Google Voice)

अगर हम टाइपिंग (Typing) करने से बचना चाहते है, और आवाज़ के साथ बोलकर सर्च इंजन (Search Engine) में सर्च करना चाहते है, तो हम गूगल वॉईस को यूज़ (Google Voice Use) कर सकते है. और अपने आप को टाइपिंग करके सर्च करने से बचा सकते है.

गूगल अर्थ (Google Earth)

अगर हम दुनिया भर में कहीं भी किसी दिशा को जानना, किसी खास जगह को देखना, या किसी दुकान आदि को खोजना चाहते है, तो आप गूगल अर्थ का उपयोग (Google Earth Use) कर सकते है.

गूगल ट्रांसलेट (Google Translate)

अगर हम किसी एक भाषा (Language) के टेक्स्ट को दूसरी भाषा मे बदल कर पढ़ना चाहते है, तो हम गूगल ट्रांसलेट की हैल्प से टेक्स्ट को चेंज (Text Change) करके पढ़ सकते है.

गूगल प्ले स्टोर (Google Play Store)

अगर आप एंड्राइड मोबाइल यूज़ (Android Mobile Use) करते है. तो आप गूगल प्ले स्टोर की हैल्प से किसी भी तरह की और किसी बी कैटेगरी से सम्बंधिट एंड्राइड एप्प (Android App) को अपने मोबाइल फोन में इंस्टॉल कर सकते है.

गूगल पे (Google Pay)

यह एक एंड्राइड एप्प (Android App) है, जिस पर अकाउंट बनाकर हम अपने बैंक को लिंक कर सकते है. और फिर किसी भी मोबाइल को रिचार्ज (Mobile Recharge) कर सकते है, बिजली, डिश, फोन आदि के बिल (Bill) भर सकते है, और किसी दूसरे गूगल पे यूज़र (Google Pay User) को कुछ ही सेकिंड्स में ऑनलाइन पैसे भेज सकते है.

इनके अलावा भी गूगल की बहुत सारी सर्विसेज़ (Services) है, जिनको हम गूगल पर अकाउंट (Google Account) बनाकर यूज़ कर सकते है. लेकिन कुछ सर्विसेज़ (जैसे – सर्च इंजन, ट्रांसलेट, यूट्यूब, मैप्स, आदि) को हम अकाउंट बनाए बिना ही उपयोग कर सकते है. आज के समय में गूगल सर्च इंजन (Google Search Engine) दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है. और इंटरनेट यूज़र्स (Internet Users) इसे इसलिये भी पसंद करते है, क्योंकि गूगल बेहतरीन सर्विसेज़ (Best Services) और अच्छे फीचर्स (Best Features), के साथ साथ हाई सिकयोरिटी भी प्रोवाइड (High Security Provide) करता है.

गूगल का इतिहास (Google History) क्या है

गूगल को स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी कैलिफोर्निया (Stanford University California) के दो पीएचडी छात्रो (PHD Students) ने बनाया था. जिनके नाम सर्जे ब्रिन और लैरी पेज है. ये दोनो 1995 में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी कैलिफोर्निया में मिले थे. और वहीं पर इन्होने गूगल सर्च इंजन (Google Search Engine) को बनाने पर विचार किया था. आज गूगल सर्च इंजन के अलावा गूगल के बहुत सारे प्रोडक्ट भी मौजूद है. जिनके बारे में सभी लोग नहीं जानते.

अगर आप गूगल के इतिहास के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते है कि गूगल (Google) क्या है, गूगल (Google) किसने बनाया है, गूगल का इतिहास (Google History) क्या है, और गूगल की सर्विसेज़ (Google Services) कौन कौन सी है, तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ते रहे. फिलहाल जानते है गूगल के इतिहास के बारे में कुछ जानकारी.

  • 1996 – गूगल का शुरूआती नाम बैकरब (Backrub) रखा गया.
  • 1997 – बैकरब को चेंज करके गूगल (Google) नाम रखा गया.
  • 1998 – गूगल के लिये पहला डूडल होमपेज (Doodle Homepage) बनाया गया.
  • 1999 – अपने विचार और ज्ञान को लोगो के साथ शेयर करने के लिये, गूगल ने ब्लागर (Blogger) को बनाया. जसे यूज़ करके हम अपने लिये एक फ्री ब्लॉग (Free Blog) बना सकते है. और उस पर पोस्ट्स शेयर करके लोगो के साथ अपने विचार और ज्ञान को शेयर कर सकते है.
  • 2000 – ऑनलाइन एडवर्टाइज़मेंट्स (Online Advertisements) के लिये गूगल ने एडवर्ड्स (Adwords) को लॉच किया.
  • 2004 – ईमेल (Email) भेजने और रिसीव करने के लिये गूगल ने जीमेल (Gmail) को लॉच किया.
  • 2005 – गूगल ने दो नई सर्विस गूगल मैप (Google Map) और यूट्यूब (Youtube) को लॉच किया.
  • 2007 – मोबाइल डिवाइस (Mobile Device) के लिये सबसे अच्छा ओपरेटिंग सिस्टम, एंड्राइड (Android) को खरीदा.
  • 2008 – गूगल ने अपना एक ब्राउज़र (Browser) लॉच किया. जिसे गूगल क्रोम (Google Chrome) के नाम से जाना जाता है.
  • 2011 – गूगल के नये सीईऔ (CEO) लैरी पेज बने.
  • 2011 – सोशल नेटवर्किंग साइट गूगल प्लस (Google Plus) को लॉच किया गया.
  • 2012 – गूगल ड्राइव (Google Drive) को लॉच किया गया, जिसका यूज़ करके हमे अपने फोटोज़, वीडियोज़, डॉक्यूमेंट्स और फाइल्स आदि को ऑनलाइन क्लाउड पर स्टोर (Store) करे सकते है.
  • 2012 – गूगल नॉऊ (Google Now) और गूगल वोइस सर्च (Google Voice Search) की सर्विस को लाया गया.
  • 2013 – चश्मे के ज़रिये मोबाइल को चलाने कि लिय गूगल ग्लास (Google Glass) को लाया गया.
  • 2016 – गूगल ने अपना पहला एंड्राइड मोबाइल फोन गूगल पिक्सल (Google Pixel) लॉच किया.
  • 2016 – घर के इलेक्ट्रोनिक डिवाइसेज़ (Electronics Devices) को बोल कर चलाने के लिये गूगल होम (Google Home) की शुरूआत की गई.

इनके अलावा भी गूगल ने अपने बहुत सारे प्रोडक्ट (Product) को लॉच किया. और समय समय पर अपनी नई नई सर्विसेज़ (Services) को लॉच करता रहता है. भविष्य में हमे गूगल की और भी कई सर्विस देखने को मिल सकती है.


हम उम्मीद करते है, इस पोस्ट को पढ़कर आप जान गए होंगे कि गूगल (Google) क्या है, गूगल (Google) को किसने बनाया है, गूगल का इतिहास (Google History) क्या है, और गूगल की सर्विसेज़ (Google Services) कौन कौन सी है.

ये ज्ञानवर्धक लेख भी ज़रूर पढ़े :


गूगल क्या है और किसने बनाया है
5 (100%) 16 votes

इस पोस्ट को शेयर करे

FacebookTwitterWhatsAppBufferLinkedInPinterest

Leave a Comment